in

Shershaah Movie Dialogues in Hindi

भारत के जांबाज सिपाही विक्रम बत्रा यानि शेरशाह की बहादुरी पर बनी है Shershaah Movie, जिसे देखने के बाद आपकी आँखों में पानी आ जायेगा। सिदार्थ मल्होत्रा की Shershaah Movie आपको कारगिल युद्ध की याद दिलाती हैं।

शेरशाह फिल्म को देखने के बाद यही लगता है की “अपने देश से बड़ा कोई धर्म नहीं होता” यह फिल्म काफी मोटिवेशन से भरा हुआ हैं, इसीलिए हमने इस पोस्ट में आपके लिए कुछ गिने चुने Shershaah Movie Dialogues in Hindi साँझा कर रहे हैं।

उम्मीद करते है की Shershah Movie Dialogues in Hindi आपको जरूर पसंद आएंगे।

Shershah Movie Real Story

कारगिल युद्ध के दौरान, विक्रम बत्रा यानि शेरशाह ने महत्वपूर्ण शिखर बिंदु 4875 पर कब्जा करने में सफल रहे और भारत के मिट्टी के लिए अपना बलिदान दिया था। विक्रम बत्रा की बहादुरी के लिए, उन्हें यूनिट के सदस्यों में शेरशाह कहा जाता था। उनकी बहादुरी के लिए उन्हें मरणोपरांत परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया था।

Vikram Batra ‘Shershah’ Real Life Story

कारगिल में दुश्मनों से लड़ते हुए शहादत देने वाले परमवीर चक्र विजेता कैप्टेन विक्रम बत्रा का जन्म 9 सितम्बर साल 1974 में हुआ था।

बिक्रम बत्रा को हांगकांग में अच्छी वेतन पर मर्चेंट नेवी में नौकरी मिल रही थी, लेकिन उन्होंने देश सेवा करने लिए भारतीय सेना में जाने का निर्णय लिया।

20 जून 1999 को सुबह 3:30 बजे कैप्टन बत्रा ने अपने साथियों के श्रीनगर-लेह मार्ग के ठीक ऊपर सबसे महत्वपूर्ण चोटी 5140 फ़तह (Victory) की थी।

5140 चोटी की जित के बाद बत्रा ने जब इस चोटी से रेडिओ के जरिये अपना विजय उद्धोष “यह दिल मांगे मोर” कहा, जो बाद में पुरे देश में यह लाइन लोकप्रिय हो गया।

चोटी 4875 पर लड़ाई के दौरान विक्रम बत्रा ने अपने जूनियर लेफ्टिनेंट नविन को बचाने के लिए लपके इसी बिच दुश्मनों ने उनके सीने में गोलियां दाग दी।

अदम्य वीरता और प्राकर्म के लिए कमांडिंग ऑफिसर लेफ्टिनेंट कर्नल Y.K Joshi ने विक्रम को “शेर शाह” उपनाम से नवाजा था।

Shershaah Movie Dialogues in Hindi

Shershah Film Dialogue

ये दिल मांगे मोर !


एक फौजी के रुतबे से बड़ा कोई रुतबा नहीं, वर्दी की शान से बड़ी और कोई शान नहीं, और अपने देश से बड़ा कोई धर्म नहीं।

Ek Fouji Ke Rutabe Se Bada Koi Rutba Nahin, Vardi Ki Shan Se Badi Or Koi Shan Nahi… Or Apne Desh Se Bada Koi Dharm Nahin.

हर फौजी का सपना होता हैं की कम से कम एक बार जंग में जाने का मौका मिले।

Har Fouji Ka Sapna Hota Hai Ki Kam Se Kam Use Ek Baar Jang Mein Jane Ka Mouka Mile…

तो हो तैयार? करोगे वॉर,? एक हफ्ता जित अपनी, दुश्मन की हार।…

Toh Ho Taiyaar? Karoge War? Ek Hafta Jit Apni, Dushman Ki Haar….

हिंदुस्तानी फौज से हमदर्दी करने वालों के लिए उनके दिलो में ख़ौफ़ बना रहना जरुरी हैं।

Hindustani Fauz se Humdardi krne walo ke liye unke Dilo me Khauf bna rahna jaruri Hain.

अगर आप फौजी हैं तो संयोग से जीते हैं, पसंद से प्यार करते हैं और पेशे से लड़ते हैं

If you’re a fauji then you live by chance, love by choice, and fight by profession

मै तिरंगा लहराकर आऊंगा, नहीं तो उसमे लिपटकर आऊंगा लेकिन आऊंगा जरूर।

Main Tiranga lehrakar aaunga, Nahi to lipatkar aaunga lekin aaunga jarur.

कुछ भी हो जाये, तिरंगा हम ही लहरायेंगे।

Kuch bhi ho jaaye, Tiranga hum hi lehrayenge.

तो ये थे विक्रम बत्रा के रियल लाइफ स्टोरी (Vikram Batra Real Life Story) और उन्ही के जीवन संघर्ष पर बनी यह Shershah Movie के कुछ सुपरहिट देशभक्ति डायलॉग (Superhit Patriotism Dialogue) थे हमें उम्मीद है की यह बिक्रम बत्रा के जीवन से जुडी Shershaah Movie Dialogues in Hindi आपको पसंद आया होगा।

यह शेरशाह फिल्म आने वाले कल यानि हमारे सेना में भर्ती होने वाले नए जवान के लिए Inspiration से कम नहीं हैं इसलिए आप उनतक इस पोस्ट को अपने सोशल मीडिया पर जरूर साँझा करें।

Written by BJ Staff

The BiharJournal is a News & Information Blog covering Breaking News, Poetry, and Latest Stories from Bihar.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

GIPHY App Key not set. Please check settings

Top 10 Poem of Mahadevi Verma

10+ महादेवी वर्मा जी की श्रेष्ठ कविताएं

Dushyant Kumar Poems in Hindi

50+ Dushyant Kumar Hindi Poems, Ghazal & Shayari